01165657890, 011-65577890 09871657890

a9@urag@gmail.com

+91 9810398128

a9@urag@gmail.com

जानिए ! आपका जुड़ा सारा नष्ट होता धन , ज्ञान कैसे बचाया जाये !

जानिए ! आपका जुड़ा सारा नष्ट होता धन , ज्ञान कैसे बचाया जाये !

मनष्य जन्म लेने के बाद जैसे जैसे बड़ा होता चला जाता है उसकी ग्रहण करने की उत्सुकता भी उसकी आयु की साथ साथ बढ़ती जाती है   और अपनी इस योग्यता की क्षमता के अनुसार अधिक जानकारी तजुर्बा हासिल करता है और वो इसी तरह उन्नति करता चला जाता है !

मगर इंसान भूल जाता है की वो केवल भगवान् की बनायी इक संरचना है और उसके द्वारा किये गए परिश्रम उस रचना के हिससे ! तो इक शरीर , मष्तिस्क जैसे वृद्धि करता है और फिर आयु बीतने पर वो  सभी रुकजाते हैं ! उसका अर्जित किया हुआ ज्ञान, अनुभव सभी उसके साथ थम जाता है !

New Indian 200 notes

आर्टिकल को पूरा पढ़िए और जानिए ! आपका जुड़ा सारा नष्ट होता धन , ज्ञान कैसे बचाया जाये !

1 2

Related Posts