01165657890, 011-65577890 09871657890

a9@urag@gmail.com

+91 9810398128

a9@urag@gmail.com

जानजाओगे तो मांजोगे ! हमारी परम्परा की कीमत तुम क्या जानो !

जानजाओगे तो मांजोगे ! हमारी परम्परा की कीमत तुम क्या जानो !

एक ही गोत्र में क्योँ न करें शादी

wedding

अाजकल बहुत से नवजात बच्चो मे जन्म से ही बिमारिया‍ं (genetic problem) निकल आती हेैं! कई शोधकर्ता के अनुसार लोगो में 'genetic problem' न हों, एक इलाज निकाला है : ‘सेपरेशन ऑफ़ जींस’ ! यह  इलाज सीधा और सरल है की नजदीकी रिश्तेदारो में शादी न करें ! एक ही कुल के जिंस विभाजित separate नहीं हो पाते ओर इससे सबंधित कई बीमारियां निकल कर आती हैं !

नोट : इक बड़ी समस्या इसी वजह से : शादी से पहले ये टेस्ट करवाना एक कुंडली मिलाने से भी कहीं ज्यादा जरूरी होता है ! इस हार्मोन्स के इस टेस्ट में शादी के इस जोडे को साफ़ साफ़ पता चल जाता है की उनके  होने वाले बच्चों में कोई जेनेटिक प्रॉब्लम तो नहीं आएंगी ! कई बार तो यहाँ तक स्पष्ट हो जाता है की ये लोग आपस में बच्चा पैदा भी नहीं कर सकतें ! तो इनके लिए सावधानी हो जाती है !

 

ये टेस्ट किसी भी हॉस्पिटल में बडे आसानी से ब्लड सैंपल से हो जाता है आपको इस किसी नए रिश्ते के चुनाव के समय जरूर इस बात  को रखना चाहिए !

 

 

कान को छिदवाने की परंपरा

स्त्री और पुरुष में पुराने समय से कान छिदवाने की परंपरा चलती आ रही है !

आजकल पुरुषों में ये परंपरा काफी काम होती जा रही है मगर इसके पीछे भी वैज्ञानिक तथ्य सामने आते हैं ! हमारा दिमाग कान से जुड़ा होता है ये हमार‌े दिमाग के सबसे की पास की ग्रंथि होती है जो इंसान के दिमाग को पल में उत्तेजित कर देती है, इसे शांत बनाये रखने के लिए इसमें धातु की बाली , चांदी की बाली  अादी पहनी जाती है ! कान छिदने पर एक्युपंचर क्रिया सक्रिय रहती है ! बच्चों को नजर नहीं लगती, ये जेवर इस negative energy को भी नष्ट कर देते हैं !

आगे पढें घर से - निकलते समय ये जरूर ध्यान रखें

1 2 3 4

Related Posts